अंगूर (Grapes) khane ke fayde। अंगूर खाने से किया फायदे होते है।

1. लाल अंगूर (Grapes) के फायदे        2. अंगूर (Grapes) के औषधि गुण
3.अंगूर (Grapes) मै प्रोटीन 

4.अंगूर की तासीर 

5. हरे अंगूर (Grapes)  के खाने के फायदे   6. अंगूर (Grapes)  खाने से किया फायदे होते है 

अंगूर (Grapes) लज्जतो गिजाइयत से भरपूर सा फल है जिस में कुदरत ने इन्सानी सेहत से मुतअल्लिक बेशुमार फाइदे रखे हैं । इसी खासियत की बिना पर इसे फलों की मलिका भी कहा जाता है। 
 अंगूर (Grapes) के प्रकार

अंगूर (Grapes)  बहुत से मुल्कों में मुखतलिफ रंगो और कई किस्म का पाया जाता है अंगूर (Grapes) की यह किस्में ज़ायके और दवा के एतबार से भी मुख्तलिफ़ होती है।

  •   सफेद या हरा अंगूर (Grapes) जो असल में हलके सब्ज रंग का होता है खटटे और मीठे दोनों जायकों में पाया जाता है। 

  •  जब कि काला अंगूर (Grapes) बुहत मीठा होता है। काले अंगूर (Grapes) मैं कुदरती  तत्व बढ़ती उम्र के असरात दूर करने और कैंसर के इलाज में मुफीद है। 
  •  अंगूर (Grapes) बेरी की नस्ल का फल है। बेरी नस्ल के  दूसरे फलों स्ट्राबेरी और ब्लेक बेरी की तरह होताा है। 

  •  अंगूर (Grapes) भी निहायत ताकत वर फल है। 

     

    अंगूर (Grapes) के फायदे 

  • इस में विटामिन A,BI,B2 और विटामिन सी अच्छी मिक़दार में पाए जाते हैं। यह विटामिन जिस्म में मौजूद खलयों (छेदों) को सेहतमन्दं और एकटिव रखने में अहम रोल अदा करते हैं । 

  • इसके अलावा अंगूर (Grapes) में केलशियम, कलोरीन, कापर फलोरीन, आयरन, मैैग्नीशियम,फासफोरस,पोटाशियम, सिलकोन, और सलफर भी पाया जाता है। 
  • अंगूर (Grapes) में चन्द मुफीद एसिड भी पाए जाते हैं जिन में टाट्रीक, ग्लेस्टिक और केफिक एसिडस शामिल हैं। अंगर के बीजो में ऐसे ऐन्टी आकसीडेन्ट पाए जाते हैं जो जिस्म में मौजूद टिशूज की मरम्मत में अहम रोल अदा करते हैं। 

  • अंगूर (Grapes) का जूस गिजा को जज्वे बदन बनाने के लिए इन्तिहाई मुफीद है। हाज़िमे की खराबी के शिकार के लिए अंगूर (Grapes) का जूस बेहतरीन इलाज है । जिस्म को गर्माईश और तवानाई देता है । 

  • अंगूर (Grapes) का रस जिस्म में खून जमने और खून के लोथड़े बनने से रोकता है । इससे जिस्म में खून की गर्दिश में तेजी आती है । 

  • अंगूर (Grapes) में पाए जानेवाले एन्टी आकसीडेन्ट आंतों की  सोजिश, जलन, कब्ज, दिल के मरज, बदहज़मी, माईग्रेन, जिगर और गुर्दो की बीमारियों से महफूज रखते हैं। एन्टीआकसीडेन्ट मसाने की पथरी दूर करने और यूरीनेशन के अमल को बेहतर बनाते हैं।

  • कच्चे अंगूर (Grapes) का जूस गले के इनफेकशन को खत्म करता है।

  • अंगूर (Grapes) में विटामिन सी पाया जाता है जिल्दी बीमारियों के इलाज और एकनी से बचाव के लिए बुहत ज्यादा फ़ायदेमंद है। 

  • जिसको खून की कमी  शिकायत लोग अपनी रोजाना की खुराक में अंगूर (Grapes) शामिल करें तो वह इसके खिलाफ बचाव की ताकत को बढ़ाता है। 
  • टी बी के मरीज़ बीमारी की पहली स्टेज में अंगूर (Grapes) का इस्तेमाल जारी रखें तो वह बहुत जल्द सेहतयाब हो सकते हैं।

  • अंगूर (Grapes) के बीजों में ऐसे अज्जा पाए जाते है जो कई बीमारियों से महफूज़ रखते हैं।

यह भी पडे

 अंगूर (Grapes )  किस बीमारी मे बिल्कुल ना ले 

  • अंगूर (Grapes) का शुमार उन फलों में होता है जिन की सतह पर कीड़े मार दवाओं की तह जम जाती है। इस लिए अगर मुमकिन हो तो ऐसे अंगूर (Grapes) का इस्तेमाल न करें। 
                               या फिर

  • अंगूर (Grapes) को सिरका और नमक मिले पानी में कुछ देर भिगों दें ताकि जरासीमी दवाओं का असर खत्म हो जाए और फिर उन्हें खाएं।

  • अंगूर (Grapes) का फल या जूस मेदे के अल्सर, शूगर और डायरिया के मरीजों के लिए मुफीद नहीं। और दूध, खीरा, तरबूज़ मछली के साथ अंगूर (Grapes) खाना मेदे की खराबी का सबब बनता है। 
  • अंगूर (Grapes) को मिनरल वाटर और चिकनाई से भरपूर खानो के साथ इस्तेमाल न करें।

अंगूर (Grapes)की तासीर किया है 


    Aक्सर लोग मालूम करते हैं कि अंगूर (Grapes)  की       तासीर किया है मतलब यह अंगूर (Grapes) खाने मे मैं     गर्म है या ठंडा,  अंगूर (Grapes) की तासीर ठण्डी है 
   इसके खाने से खून मे ब्लड celculation को नॉर्मल           रखता है कि हमारे लिए बुहत जरूरी हैं।
Spread the love

Leave a Comment